Life Style

असली नकली दूध की पहचान कैसे करें?

असली नकली दूध की पहचान कैसे करें? (Asli Nakli Doodh Ki Pehchan Kaise Kare) जानकारी इस लेख में शेयर की जा आरही है.  Milavati Doodh Ki Pehchan Kaise Kare? ये जानना स्वास्थ्य की दृष्टि से अति-आवश्यक है, क्योंकि आजकल में दूध में कई प्रकार की अशुद्धियों जैसे साबुन, डिटर्जेंट, यूरिया, स्टार्च आदि की मिलावट की जाती है. विस्तार से पढ़िये :

How To Check Purity Of Milk In Hindi

Asli Nakli Doodh Ki Pehchan Kaise Kare

Asli Nakli Doodh Ki Pehchan Kaise Kare

दूध एक ऐसा पौष्टिक पेय पदार्थ है, जो हमारी रोज़मर्रा के जीवन का अभिन्न अंश है. यह प्रोटीन, कैल्शियम, राइबोफ्लेविन (विटामिन बी–2), विटामिन ए, विटामिन डी, विटामिन ई के अतिरिक्त फास्फोरस, मैग्नीशियम, आयोडीन व कई प्रकार के मिनरल और वसा का स्रोत है.

इसकी पौष्टिकता के कारण हर आयुवर्ग के लोग विभिन्न रूपों में इसका सेवन करते हैं. नवजात शिशु तो तब तक दूध पर निर्भर रहता है, जब तक वह अन्य खाद्य पदार्थों का सेवन करने में सक्षम ना हो जाए.

चाय, कॉफ़ी, पनीर, खीर, आइसक्रीम, मिठाइयाँ और जाने कितने ही पकवान हैं, जिन्हें दूध का इस्तेमाल कर बनाया जाता है और सेवन किया जाता है. इस कारण दूध के डिमांड दिन पर दिन बढ़ती जा रही है. ऐसे में इसकी पूर्ति के लिए मिलावट का गोरख धंधा भी आरंभ हो गया है.

पहले तो दूध में सिर्फ़ पानी मिलाया जाता था. लेकिन अब वह पुरानी बात हो चुकी है. आजकल दूध में सिंथेटिक तरीके से बनाया जाता है. सिंथेटिक दूध में साबुन, डिटर्जेंट, यूरिया, स्टार्च आदि जाने कितनी अशुद्धियाँ मिलाई जाती है, जिससे दूध दूध न रहकर जहर बन जाता है.

सिंथेटिक दूध का सेवन शरीर पर दुष्प्रभाव डालता है. इसके लगातार सेवन से कई प्रकार की बीमारियाँ हो सकती हैं, जैसे ह्रदय रोग, गुर्दे की बीमारियाँ, हड्डियों की समस्याएं, त्वचा की समस्याएं, सिर दर्द, यहाँ तक कि कैंसर भी.

अतः स्वास्थ्य की दृष्टि से ये आवश्यक हो जाता है कि हमें असली और नकली दूध की पहचान हो और ऐसा करना बिल्कुल आसान है. इस पोस्ट में हम असली नकली दूध की पहचान करने के कुछ तरीके शेयर कर रहे हैं. इन तरीकों का इस्तेमाल कर आप दूध की शुद्धता की जांच कर सकते हैं और अपनी सेहत के साथ मिलावटखोरों द्वारा की जा रही खिलवाड़ से बच सकते हैं :

Asli Nakli Doodh Ki Pehchan Kaise Kare

सिंथेटिक दूध की पहचान कैसे करें?

  • चिकनाहट से पहचाने असली नकली दूध : दूध को हथेलियों के बीच रगड़ें. यदि दूध आपको साबुन जैसा चिकना लगे, तो दूध सिंथेटिक हो सकता है. शुद्ध या असली दूध में किसी प्रकार की चिकनाहट महसूस नहीं होती.
  • स्वाद से पहचाने असली नकली दूध : असली दूध का स्वाद हल्का मीठा होता है, जबकि सिंथेटिक दूध का स्वाद डिटर्जेंट और सोडा मिलाने के कारण कुछ अजीब सा और कड़वापन लिएय हुए होता है.
  • गंध से पहचाने असली नकली दूध : सूंघने पर असली दूध से कोई विशेष गंध नहीं आती, जबकि नकली दूध से साबुन जैसी गंध आती है.
  • रंग से पहचाने असली नकली दूध :
  • दूध को उबालने के बाद ४-५ घंटों के लिए ठंडा होने के लिए छोड़ दें. यदि दूध हलके पीले रंग का हो गया है, तो वह सिंथेटिक है. जबकि असली दूध अपना रंग नहीं बदलेगा.

ब) दूध में हल्दी मिलाकर उसे १०-१५ मिनट के लिए छोड़ दें. यदि दूध में हल्दी के जैसा पीलापन है, तो दूध असली है. लेकिन यदि दूध लाल रंग का हो जाए, तो यह सिंथेटिक है.

दूध में पानी की मिलावट की पहचान कैसे करें?

असली दूध की पहचान करने के लिए थोड़ा सा दूध एक काली सतह पर डाल दें. यदि दूध की धार अपने पीछे एक सफ़ेद लकीर छोड़े, तो दूध शुद्ध है.

 दूध में यूरिया की मिलावट की पहचान कैसे करें?

  • दूध में सोयाबीन या अरहर की दाल का पाउडर मिलाकर ५ मिनट के लिए छोड़ दें. ५ मिनट बाद उसे लाल लिटमस पेपर पर डाले. यदि लिटमस पेपर लाल से नीला हो जाये, तो निश्चित तौर पर उसमें यूरिया मिला हुआ है.

दूध में स्टार्च की मिलावट की पहचान कैसे करें?

कई बार दूध में स्टार्च की मिलावट की जाती है. इसका पता करने के लिए आयोडीन, जो घावों या चोट के निशान पर लगाई जाती है उसकी २-३ बूँदें दूध में दाल दें. यदि दूध शुद्ध है, तो आयोडीन की वजह से वह कुछ पीला हो जायेगा. लेकिन यदि उसमें स्टार्च मिला हुआ हो, तो उसका रंग नीला हो जायेगा. 

दोस्तों इन तरीकों का इस्तेमाल कर आप असली और नकली दूध में पहचान कर अपने स्वास्थ्य की रक्षा कर सकते हैं. आशा है, आपको Milavati Doodh Ki Pehchan Kaise Kare जानकारी उपयोगी लगी होगी. आर्टिकल पसंद आने पर इसे शेयर अवश्य करें. हमें सब्सक्राइब करना ना भूलें. धन्यवाद.

Leave a Comment